सभी एयरबस हवाई जहाज का नाम A और 3 से ही क्यों शुरू होता हैं ? How are aircraft named? Aircraft Nomenclature - Flying pandit

 

Flying pandit

सभी एयरबस हवाई जहाज का नाम A और 3 से ही क्यों शुरू होता हैं ?

आज पूरी दुनिया मे हवाई यात्रा का उपयोग बढ़ता ही जा रहा है। और साथ ही हवाई जहाज की मांग भी दिनों दिन बढ़ रही हैं ।
लेकिन क्या अपने कभी सोचा है कि #हवाई जहाज निर्माता कंपनियां इनका नामकरण कैसे करती हैं ।
#आखिर किस आधार पर हवाई जहाज का नामकरण होता हैं?
आपको बता दे कि जब कोई इंसान जन्म लेता हैं तो उसके बाद उसका नामकरण होता हैं लेकिन हवाई जहाज के प्रकरण में ऐसे नही है ,पहले हवाई जहाज का नामकरण होता है फिर उसका निर्माण कार्य आरंभ किया जाता है।

आज हम बात करेंगे एयरबस हवाई जहाज के नामकरण के बारे में की आखिर एयरबस का जहाज के नाम की शुरुआत A और 3 से ही क्यों होती हैं।

लेकिन बहुत से लोगो का ये सवाल था कि आखिर हर एयरबस विमान A अक्षर से क्यों शुरू होता है?  और एयरबस ने अपने पहले विमान के लिए 300 नंबर पर क्यों शुरू किया?  आइए ढूंढते हैं।

#एयरबस हमेसा अक्षर A - का की क्यो उपयोग करता है :-
कभी-कभी सबसे स्पष्ट उत्तर सही होता है।  इसके सभी एयरक्राफ्ट नंबरों में सबसे आगे A  है।  यह उत्तर इतना बुनियादी है कि आप पूछ रहे होंगे कि एयरबस ने B या C अक्षर को अपने विमान के नामों के सामने क्यों नहीं रखा है, हालांकि इसका उपयोग आधिकारिक रेटिंग्स द्वारा टाइप रेटिंग्स के लिए किया जाता है।

मूल तथ्य -:

● एयरबस में जो अक्षर "A" है वह कंपनी के मूल नाम एयरबस को दर्शाता है । जैसे #A319 #A320 #A321...

● एयरबस के वाणिज्यिक हवाई जहाज के नाम में जो  संख्या "3" है वह  कंपनी के तीन मूल संस्थापक देशों: फ्रांस, जर्मनी और यूके का प्रतीक है।

पहला तथ्य -:
आपको बता दे कि एयरबस ने अपना सबसे पहला हवाई जहाज एयरबस A300 बनाया था।  इस मामले में, A का मतलब  एयरबस और 300 का मतलब उसमे यात्रियों की मूल क्षमता थी।  कुछ समय बाद, एयरबस को एहसास हुआ कि विमान केवल 260 यात्रियों (300 के बजाय) के साथ बेहतर होगा।  हालांकि, विमान A260 का नाम बदलने के बजाय, उन्होंने A300B के साथ जाने का फैसला किया।
लेकिन फिर भी यह नाम ज्यादा दिन तक उपयोग में नही लाया और उसने A319 से शुरुआत की।

दूसरा तथ्य -:
जानकारी के मुताबिक आपको बता दे कि कोई भी कंपनी चाहे छोटी हो या बड़ी वह अपने किसी भी समान का नाम ऐसे रखती है जो लोगो को आसानी से याद हो सके ।
और लोग आसानी से उसको पहचान सके यही कारण है कि  एयरबस ने भी इस नाम की श्रेणी आगे संचालित की।

लेकिन आइए हम एयरबस के नामकरण के इतिहास में थोड़ा गहराई से देखें।  अगर हम एयरबस की A 320 श्रेणी के नाम पर एक नज़र डालें, तो एक सामान्य मॉडल संख्या है:

#A320-321

A = एयरबस

320 = मॉडल संख्या (उस पर और अधिक)

-200 = 2 का मतलब एयरबस A320 का दूसरा संस्करण

31 = विमान का इंजन संस्करण

कुछ विमानों के नाम लंबे होते हैं, जैसे एयरबस A350.
एयरबस अपनी Neo श्रृंखला द्वारा इस  प्रक्रिया को और जटिल करता है।  नए इंजन विकल्प के लिए खड़े Neo विमान, अद्यतन विनिर्देशों और नए इंजन के साथ संस्करण हैं।  हालांकि, ये संशोधन बहुत व्यापक नहीं हैं, और कई Neo संस्करणों में सीमित अपग्रेड हैं जो एक क्लीन-शीट डिज़ाइन की तुलना में गिरावट-कम हैं।

आपको Airbus Neo नाम मिल सकते हैं जो कि A321-271N के रूप में लंबे समय तक हैं, जहा N का मतलब नया संस्करण हैं।

उन लोगों के लिए जो पूछ रहे हैं कि एयरबस विमान 300 नंबर से शुरू होता है, न कि 100 सीरीज़ (या बोइंग जैसी 700 सीरीज़) के लिए, ऐसा इसलिए है क्योंकि एयरबस ने विमान को यात्रियों के बैठने की क्षमता के आधार पर हवाई जहाज  के नामकरण का फैसला किया की कितने यात्री उस जहाज में बैठ सकते हैं।

एयरबस ने 300 यात्रियों को ले जाने के लिए एयरबस A300 को डिज़ाइन किया, लेकिन, विडंबना यह है कि उन्होंने इसे कम कर दिया, क्योंकि उनका मानना ​​था कि भविष्य में किसी भी एयरलाइन को इतने यात्रियों को ले जाने की आवश्यकता नहीं होगी।

एयरबस ने इतनी अधिक संख्या मे  जहाजो को कैसे विभाजित किया?

वाणिज्यिक विमानों की एयरबस लाइन को देखते हुए, आप देख सकते हैं कि एक पैटर्न है।

■ एयरबस #A300 - एयरबस का पहला विमान।

■ Airbus #A310 - वाइडबॉडी घरेलू विमान।  #A300 से छोटा।

■ एयरबस #A320 - घरेलू यात्रा के लिए संकीर्ण केबिन।

■ एयरबस #A330 - ट्विन इंजन वाइडबॉडी।

■ एयरबस #A340 - चार इंजन लंबी दूरी की बोइंग 747 प्रतियोगी।

■ एयरबस #A350 - बाजार में जारी किया गया सबसे आधुनिक एयरबस विमान है।

■ एयरबस #A380 - प्रसिद्ध डबल-डेक विमान।

आप समझ सकते हैं कि एयरबस #A360 और #A370 श्रेणी से अलग हो गया और #A380  सही हो गया।
  एयरबस का मानना ​​था कि #A380 इतना बड़ा था (800 से अधिक सीटों के साथ अगर सभी अर्थव्यवस्था) कि उन्हें अन्य संख्याओं जैसे #A360 को छोटे विमानों के लिए रखना चाहिए जो भविष्य में (400-500 सीटर रेंज में) बना सकते हैं।
और एयरबस #A380प्लस एक ऐसा हवाई जहाज होगा जो सबसे बेहतर परिणाम सामने रख सकता हैं

★ एयरबस दिनों दिन इन हवाई जहाज के सिस्टम और तकनीक में नई दिशा लाने की कोशिश कर रही है और नए तकनीक के साथ नया मॉडल बाजार में उतार रही है जो कम वजन के हो और कम ईधन खपत करे, भविष्य में ऐसे ही हवाई जहाज की जरूरत है ।
A320 की बात करे तो इसमें नई तकनीक का इंजन है जो कम ईधन खपत करता है।

★ एयरबस का जहाज पूरी दुनिया के 400 से अधिक ऑपरेटर उपयोग कर रहे हैं ।
★ एयरबस द्वारा निर्मित जहाज में 100 से लेकर 850 से अधिक यात्रियों के बैठने की क्षमता है ।

★ इसका एक अतिरिक्त कारण यह था कि आठ नंबर एशियाई संस्कृति (अर्थात् चीनी) में शुभ था, और एयरबस इस नए विमान के साथ उस बाजार को और अधिक समझाना चाहता था इसीलिए एयरबस ने #A360 और #A370 की श्रेणी को रोक दिया और सीधे दुनिया का सबसे बड़ा यात्री विमान बाजार में उतार दिया जिससे एयरबस को  एक नया कीर्तिमान हासिल हुआ।

How are aircraft named?

How are military aircraft named?

What is the P designation for aircraft?

What do the letters stand for on military aircraft?

Why are planes named after numbers?


Flying pandit
Read now 
 

Comments

  1. Thanks for giving an Excellent Blog, it's very useful information to us, I learned new info in this article, keep on it doing like this, I waiting for your updates, Thank you So much...
    Best Air hostess Training Institute in Chennai
    Best Ground staff Training Institute in Chennai
    Best Ground staff Academyn Chennai

    ReplyDelete
  2. It's very interesting, Really it' more informative for my future.

    Best Aviation Academy in Chennai

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

क्या आप जानते हैं, हवाई जहाज में यात्रियों के लिए पैराशूट क्यों नहीं रखा जाता हैं - फ्लाइंग पंडित